Author:
• Tuesday, September 18th, 2012

सरकारी सेवाओं और संस्थानों में पर्याप्त प्रतिनिधित्व नहीं रखने वाले पिछड़े समुदायों तथा अनुसूचित जातियों और जनजातियों से सामाजिक और शैक्षिक पिछड़ेपन को दूर करने के लिए भारत सरकार ने अब भारतीय कानून के जरिये सरकारी तथा सार्वजनिक क्षेत्रों की इकाइयों और धार्मिक/भाषाई अल्पसंख्यक शैक्षिक संस्थानों को छोड़कर सभी सार्वजनिक तथा निजी शैक्षिक संस्थानों में पदों तथा सीटों के प्रतिशत को आरक्षित करने की कोटा प्रणाली प्रदान की है। भारत के संसद में अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के प्रतिनिधित्व के लिए भी आरक्षण नीति को विस्तारित किया गया है। भारत की केंद्र सरकार ने उच्च शिक्षा में 27% आरक्षण दे रखा है  और विभिन्न राज्य आरक्षणों में वृद्धि के लिए क़ानून बना सकते हैं। सर्वोच्च न्यायालय के फैसले के अनुसार 50% से अधिक आरक्षण नहीं किया जा सकता, लेकिन राजस्थान जैसे कुछ राज्यों ने 68% आरक्षण का प्रस्ताव रखा है, जिसमें अगड़ी जातियों के लिए 14% आरक्षण भी शामिल है।

Author:
• Sunday, September 02nd, 2012

India’s Portal is a sincere effort for positive discussions and guidelines fot the youth, by the youth and to the youth of India. India is the only country in the world which has its 55 Crore of population below 35 years of age. This means the we have all sort of power and energy that is required to make a nation as a supreme power in the world but the only factor that is stopping us is the direction. India, a land of rich and varied cultural heritage, a land of Swami Vivekananda, land of Love, Traditions, Values and much more. This Blog is a sincere effort in reaching towards the ideas, thoughts, discussions and directions on how we can achieve this and how to make these words a reality. In the end, I thanks you all participants for visiting this. Kindly share your thoughts with us and make this Blog as a Voice of India.

 

हो गई है पीर पर्बत सी पिघलनी चाहिए
इस हिमालय से कोई गंगा निकलनी चाहिए

आज ये दीवार पर्दों कि तरह हिलने लगे
शर्त लेकिन थी कि ये बुनियाद हिलनी चाहिए

हर सड़क पर, हर गली में, हर नगर हर गाँव में
हाथ लहराते हुए हर लाश चलनी चाहिए

सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं
मेरी कोशिश ये है कि ये सूरत बदलनी चाहिए

मेरे सीने में नहीं तो तेरे सीने में सही
हो कहीं भी आग लेकिन आग जलनी चाहिए

 

Thanks,
Vivek Bajpai

Category: Uncategorized  | One Comment